स्वतंत्रता पुकारती स्वतंत्रता गुहारती, इस महान देश को फिर महान चाहती- प्रो.पांडेय

मायाराम महाविद्यालय में मना स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। राष्ट्र के 75 वें स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम को जिले के प्रतिष्ठित उच्च शिक्षण संस्था मायाराम महाविद्यालय के प्रांगण में अमृत महोत्सव के रूप में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। महाविद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष बद्री नारायण बैस ने ध्वजोत्तोलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ कराया। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित विद्वत परिषद के अध्यक्ष व सुपरिचित शिक्षाविद तथा साहित्यकार प्रो॰ विंध्यवासिनी प्रसाद पांडेय ने परतंत्र भारत के अपने 13 वर्ष के वाल्यकाल तथा विद्यार्थी जीवन के समय कि सामाजिक एवं राष्ट्रीय विसंगतियों का वर्णन करते हुए स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों और अमर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

अपने वक्तव्य में श्री पाण्डेय ने कहा कि आज हम सभी जिस स्वच्छंदता और स्वतंत्रता के साथ पारिवारिक एवं सामाजिक जीवन को व्यतीत कर रहे हैं यह उन्हीं बलिदानियों के त्याग और तपस्या का प्रतिफल है।
प्रोफेसर पाण्डेय ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के कारण अनेक प्रकार कि विसंगतियाँ उत्पन्न हो गई हैं। शैक्षणिक संस्थाओं में आयोजित होने वाले कार्यक्रम एवं उद्बोधन विशेषकर युवा पीढ़ी के लिए होते हैं, किन्तु आज वे इस कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हो सके। ऐसी विषम परिस्थितियों में जनहित में निर्देशित सभी नियमों का पालन एवं अनुशरण नितांत आवश्यक है। उन्होंने विधायक रामलल्लू बैस द्वारा मायाराम महाविद्यालय जैसे महाविद्यालय की स्थापना को इस क्षेत्र के उच्च शिक्षण व्यवस्था में एक बड़ा योगदान बताया तथा प्रबंध समिति एवं महाविद्यालय परिवार को साधुवाद दिया।

उन्होंने कविता की पंक्तियों-‘स्वतंत्रता पुकारती स्वतंत्रता गुहारती, इस महान देश को फिर महान चाहती’ को दुहराते हुए युवाओं को आपसी मतभेद छोडकर अपने श्रम समय शक्ति का कर्तव्य पालन हेतु उपयोग करने का आह्वान किया।

अपने कौशल से स्वतंत्रता को और आगे ले जाने का युवाओं पर भार- रोहित गुप्त

विशिष्ट अतिथि पत्रकार- रोहित गुप्त ने आयोजन को संबोधित करते हुए कहा कि 1947 में प्राप्त हुई स्वतंत्रता एक उपलब्धि थी, किन्तु अपने संविधान ने हमें आज 75 वां स्वतंत्रता दिवस मानने का सुअवसर प्रदान किया है और हम अमृत महोत्सव मना रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान युवा पीढ़ी पर स्वतंत्र भारत को अपने कुशल योगदान से देश को शक्ति संपन्न बनाते हुए 100 वें स्वतंत्रता दिवस से भी आगे सफलतापूर्वक ले जाने का गुरुतर भार है।

इस कार्यक्रम में महाविद्यालय प्रबंध समिति के उपाध्यक्ष जग प्रसाद वैस व पत्रकार रामयश सिंह भी विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय के प्राचार्य सतेन्द्र कुमार दुबे तथा संचालन प्राध्यापक रमेश बैस एवं तकनीकि संचालन बृजेश बैस कर रहे थे।

प्रबंध समिति ने किया सम्मानित

महाविद्यालय प्रबंध समिति ने स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अवसर पर संस्था के सभी शैक्षणिक व अशैक्षणिक सदस्यों को उपहार प्रदान कर सम्मानित किया। यह उपहार अतिथियों के द्वारा प्रदान किए गए। अंत में संस्था के अध्यक्ष बद्रीनारायण बैस द्वारा अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया।

इनकी रही विशेष उपस्थिति

इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राध्यापक वीके चौहान, सुश्री जतिन्दर कौर, श्रीमति कौशल्या बैस, सुरेश सिंह, बी डी पाण्डेय सहित महाविद्यालय परिवार के अन्य लोग व मीडिया के लोगों की उपस्थिति रही।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button