रनवे की जद में आ रहे आधा दर्जन मकानों को प्रशासन ने ढहाया

सिंगरौली। निर्माणाधीन हवाई पट्टी के रनवे की जद में आने वाले आधा दर्जन से अधिक मकानों को प्रशासन ने आज अंततः ढहा दिया। बताया गया है कि प्रशासन द्वारा इन्हें खाली कराने के संबंध में कई बार दी गई नोटिस और अल्टीमेटम का कब्जाधारकों पर कोई असर नहीं पड़ रहा था। वे लोग इस भूमि को खाली करने से इंकार कर रहे थे। तब विवश होकर जिला प्रशासन को यह कार्रवाई करनी पड़ी।

बीते मंगलवार को कलेक्टर राजीव रंजन मीना के निर्देश पर एसडीएम सिंगरौली ऋषि पवार व नायब तहसीलदार की मौजूदगी में जेसीबी मशीनों की सहायता से निर्माणाधीन रन वे की परिधि में आ रहे मकानों का ढहा दिया गया।

ढुलमुल तरीक़े से चल रहा हवाई पट्टी का निर्माण कार्य

सिंगरौली जिला व ऊर्जांचल परिक्षेत्र के लोगों की सुविधा के लिए वैढ़न के समीप प्रस्तावित सिंगरौलिया हवाई पट्टी के निर्माण को लेकर शासन व प्रशासन ने जो तेजी दिखाई थी, वह संविदाकार के ढुलमुल रवैये के कारण मंथर पड़ गई है। हवाई पट्टी के बाउण्ड्री वॉल, प्रशासनिक भवन आदि के निर्माण का जिस संविदाकार को काम सौंपा गया है, उसने निर्धारित समय सीमा में बाउण्ड्री वॉल तक भी तैयार नहीं किया है। अलबत्ता उसने अधिग्रहित भूमि को कब्जाधारियों से मुक्त नहीं कराये जाने का ठीकरा प्रशासन पर ही फोड़ने का प्रयास किया था।

तथ्यों की जानकारी के बाद सक्रिय हुए कलेक्टर

यह तथ्य जब कलेक्टर के संज्ञान में आया तब उन्होंने मंगलवार की सुबह स्थल निरीक्षण किया। मौके पर मौजूद एसडीएम ऋषि पवार, नायब तहसीलदार जान्हवी शुक्ला व पीडब्ल्यूडी के एसडीओ सहित अन्य अमला मौके पर पहुंच अधिग्रहित भूमि पर काबिज लोगों को मकानों को खाली कराने के लिए फिर से समय दिया। लेकिन आधा दर्जन से अधिक भूमि स्वामी जमीन खाली नहीं कर रहे थे। अंतत: उक्त मकानों को जेसीबी मशीन से ढहा दिया गया।

प्रशासन के अनुसार

इस दौरान प्रशासन ने स्पष्ट कर दिया कि उक्त भूमि व मकान का मुआवजा दिया जा चुका है और बार-बार सूचना देने के बावजूद जमीन खाली नहीं करने से रनवे व हवाई पट्टी का निर्माण कार्य प्रभावित हो रहा था। फिलहाल प्रशासन की मौजूदगी में रनवे के जद में आने वाले आधा दर्जन मकानों को तोड़ दिया गया है। साथ ही हवाई पट्टी के निर्माण कार्य में तेजी लाने के लिए संविदाकार को सख्त निर्देश दिये गये हैं।

उखाड़ दिये गये बिजली खंभे

मंगलवार को प्रशासन ने सख्ती दिखाते हुए 7 मकानों को तोड़वा दिया। वहीं बिजली कलेक्शन काटते हुए बिजली के खंभों तक को वहाँ से हटा दिया गया। प्रशासन के सख्त कार्रवाई को देख ग्रामीणों ने मौन धारण करना हि उचित समझा।

कलेक्टर मीना का कहना है कि..

सिंगरौली कलेक्टर राजीव रंजन मीना ने बताया कि “हवाई पट्टी रनवे के लिये अधिग्रहित भूमि के क्लियरेंस में दिक्कतें आ रही थी। जबकि भूमि का कम्पनसेशन दिया जा चुका है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button