देश में कोयला संसाधनों के उत्कृष्ट आकलन के लिए कोल इंडिया ने लॉन्च किया सॉफ्टवेयर

जर्मी के सहयोग से भारत में बना है यह सॉफ्टवेयर

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। भारत सरकार की महारत्न कंपनी कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) ने स्पेक्ट्रल एनहान्समेंट (एसपीई) नामक सॉफ्टवेयर लॉन्च किया है, जो भूकंपीय तरंगों की मदद से सर्वे कर भूगर्भ में दबी कोयले की पतली से पतली परत (सीम) का पता लगाने में मदद करेगा और इससे देश में कोयला संसाधनों के बेहतर आकलन में मदद मिलेगी। यह देश में कोयले की खोज में इस्तेमाल होने वाला अपनी तरह का पहला ऐसा सॉफ्टवेयर है।

अब तक भूगर्भ में कोयले की सीम का पता लगाने के लिए किए जा रहे भूंकपीय सर्वे से धरती के भीतर विद्यमान कोयले की पतली सीम का स्पष्ट रूप से पता नहीं चल पाता है, जिससे कोयला संसाधनों के आकलन में कठिनाई आती है। एसपीई सॉफ्टवेयर इसी समस्या का समाधान है। यह भूकंपीय तरंगों की क्षमता को बढ़ाने में मदद करती है, जिससे धरती के भीतर कोयले की पतली से पतली सीम का भी पता चल पाता है।

मेड इन इंडिया है साफ्टवेयर

कोल इंडिया की अन्वेषण एवं विकास (आरएंडडी) करने वाली अनुषंगी कंपनी सेंट्रल माइन प्लानिंग एंड डिजाइन इंस्टिट्यूट (सीएमपीडीआई) ने अपनी तरह के इस पहले सॉफ्टवेयर को गुजरात एनर्जी रिसर्च एंड मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट (जर्मी) के सहयोग से तैयार किया है और इस सॉफ्टवेयर के कॉपीराइट प्रोटेक्शन के लिए भी आवेदन दिया जाएगा।

यह ‘मेड इन इंडिया’ सॉफ्टवेयर कोयले की खोज की प्रक्रिया में लगने वाले समय और पैसे के खर्च को भी कम करेगा, जिससे देश को कोयला उत्पादन में आत्मनिर्भर बनने में मदद मिलेगी।
कोल इंडिया लिमिटेड के सीएमडी प्रमोद अग्रवाल ने कंपनी के आरएंडडी बोर्ड के सदस्यों की उपस्थिति में इस सॉफ्टवेयर को लॉन्च किया, जिसमें कंपनी के निदेशकगण एवं प्रतिष्ठित संस्थाओं के सदस्य सम्मिलित हैं।
बताया गया है कि कोल इंडिया देश का 80 प्रतिशत से अधिक कोयला उत्पादन करती है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button