10 हजार की रिश्वत लेते लोकायुक्त के जाल में फंसा समिति प्रबंधक

कठौली के सेल्समैन से ली जा रही थी रिश्वत

सिंगरौली/सीधी। लोकायुक्त पुलिस रीवा की टीम ने कल सुबह शहर के दक्षिण करौदिया में समिति प्रबंधक चौफाल पुष्पेन्द्र सिंह चौहान को 10 हजार रूपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। यह रिश्वत शासकीय उचित मूल्य दुकान कठौली के विक्रेता लव सिंह निवासी गाड़ा बबन सिंह से ली जा रही थी।

शिकायतकर्ता लव सिंह के अनुसार समिति प्रबंधक चौफाल पुष्पेन्द्र सिंह द्वारा वसूली की राशि जमा करने की अवधि बढ़ाने के नाम पर 15 हजार रूपये की रिश्वत मांगी गई थी। जिसमें पांच हजार रूपये पूर्व में ही दिए जा चुके थे। शेष 10 हजार रुपये रिश्वत की राशि गत दिवस दी जानी थी। इसके लिए समिति प्रबंधक द्वारा सेल्समैन को अपने दक्षिण करौंदिया स्थित आवास पर बुलाया गया था।

ऐसे हुई कार्यवाही

विक्रेता लव सिंह के अनुसार उनके द्वारा रिश्वत मांगने की शिकायत लोकायुक्त पुलिस रीवा के कार्यालय में 28 अगस्त को की गई थी। शिकायत की पुष्टि करने के बाद लोकायुक्त पुलिस टीम ने आज समिति प्रबंधक को रंगे हाथों रिश्वत लेते पकडऩे की पूरी कार्ययोजना तैयार की थी। इसके लिए विक्रेता लव सिंह द्वारा समिति प्रबंधक से सम्पर्क कर कल सुबह रिश्वत देने का समय निर्धारित किया था। उससे पूर्व लोकायुक्त रीवा पुलिस की टीम समिति प्रबंधक के दक्षिण करौदिया नाग मंदिर के समीप स्थित आवास के पास अपना मोर्चा संभाल चुकी थी। लोकायुक्त पुलिस टीम के ज्यादातर सदस्य सिविल ड्रेस में आसपास चहलकदमी कर रहे थे। उसी दौरान सेल्समैन लव सिंह तय कार्य योजना के अनुसार समिति प्रबंधक पुष्पेन्द्र सिंह चौहान के आवास में दाखिल हुआ और 10 हजार रुपये रिश्वत देने के बाद वह आवास से थोड़ा बाहर निकला और बाहर डंटे लोकायुक्त पुलिस के सदस्यों को संकेत किया।

लोकायुक्त रीवा की 17 सदस्यीय टीम ने की कार्यवाही

सेल्समैन का संकेत मिलते ही 17 सदस्यीय लोकायुक्त पुलिस टीम ने अचानक धावा बोल दिया। समिति प्रबंधक के आवास के अंदर टीम प्रवेश कर गई और पुष्पेन्द्र सिंह चौहान को दबोचते हुए रिश्वत की 10 हजार की राशि को अपने कब्जे में लिया। रिश्वत लेने की पुष्टि के लिए समिति प्रबंधक का हाथ धुलवाया गया। नोटों में पूर्व से लगे पाउडर के चलते समिति प्रबंधक के हाथ लाल हो गए।

रिश्वत लेने की पुष्टि होने के बाद लोकायुक्त पुलिस टीम ने समिति प्रबंधक पुष्पेन्द्र सिंह चौहान को उनके आवास से गिरफ्तार कर लिया और औपचारिकताओं के लिए स्थानीय सर्किट हाउस लेकर पहुंची। यहां लोकायुक्त पुलिस टीम की कार्यवाही का सिलसिला शाम तक जारी रहा। इसके बाद यह टीम रीवा के लिए रवाना हो गई।

वसूली जमा का समय बढ़ाने के लिए मांगी थी रिश्वत

शासकीय उचित मूल्य दुकान कठौली के सेल्समैन लव सिंह ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि समिति प्रबंधक चौफाल पुष्पेन्द्र सिंह चौहान द्वारा वसूली जमा करने की नोटिस जारी की गई थी। नोटिस में 60 दिवस के अंदर पूरी वसूली राशि जमा करने को कहा गया था। निर्धारित समय में वसूली राशि जमा न होने पर पद से हटाने की चेतावनी दी गई थी। वसूली की राशि करीब 5-6 लाख रूपये थी। इतनी बड़ी राशि जमा कराने के लिए वो और ज्यादा समय बढ़वाना चाहते थे। इसके एवज में समिति प्रबंधक द्वारा 15 हजार रूपये की रिश्वत मांगी गई थी। जिसमें पांच हजार रूपये उन्हे पूर्व में ही दिया जा चुका था। रिश्वत की शेष 10 हजार रूपये भी देने के लिए दवाब दिया जा रहा था। जिस पर रिश्वत लेते हुए पकडऩे की पूरी कार्ययोजना बनाई गई थी।

इनका कहना है

लोकायुक्त रीवा कार्यालय में उचित मूल्य दुकान कठौली के विक्रेता लव सिंह द्वारा 28 अगस्त को समिति प्रबंधक चौफाल पुष्पेन्द्र सिंह चौहान पर वसूली अवधि एक-दो माह बढ़ाने की एवज में 10 हजार रूपये रिश्वत मांगने की शिकायत दर्ज कराई गई थी। शिकायत की पुष्टि उसी दिवस को हो जाने पर रिश्वत लेते हुए पकडऩे की कार्ययोजना बनाई गई थी। समिति प्रबंधक के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत कार्यवाही की जा रही है।

डीएस मरावी
टीआई लोकायुक्त, रीवा

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button