आदिवासी बहुल क्षेत्र गिधेर व पोखरा में टीकाकरण को प्रोत्साहित करने बांटी गयी मच्छरदानी

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। हिण्डालको महान परियोजना ने अपने सीएसआर कार्यक्रम के तहत आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र गिधेर व पोखरा में टीकाकरण को प्रोत्साहित करने के लिए मच्छरदानी का वितरण किया।

कोरोना वॉयरस महामारी की तीसरी लहर की सुनामी भले ही अभी भारत में ना आयी हो लेकिन इससे लड़ने के लिये वैक्सीनेशन बहुत जरुरी है। हिण्डालको महान कोरोनाकाल से जागरुकता अभियान चला रहा है जिससे टीकाकरण को गति भी मिला है।

जिले में टीकाकरण को बढ़ावा देने के लिये ग्रामीणों के बीच मच्छरदानी वितरण की मुहीम संस्थान अपने आस-पास के 17 गांवो में चला रहा है। जिन्होंने कोरोना के टीके लगवा लिये हैं उन परिवारों को मच्छरदानी का उपहार देकर सम्मानित किया जा रहा है। इससे टीकाकरण के प्रति लोगों का रुझान बढ़ रहा है।

इसी कार्यक्रम की कड़ी में हिण्डालको महान सीएसआर विभाग द्वारा वनांचल में स्थित ग्राम गिधेर, पोखरा के साथ-साथ बरहवाटोला व कनई में टीकाकरण कराने वाले 800 कोरोना वीरों को प्रोत्साहित करते हुये मच्छरदानी प्रदान किया गया। पूर्व में इस अभियान को सजहर, ड़गा, बरेंनिया ग्राम में सम्पन्न किया जा चुका है।

ये रहे उपस्थित

कार्यक्रम में ग्राम पोखरा की सरपंच सोनमती, गिधेर सरपंच सत्य नारायण सिंह, कनई सरपंच पवन प्रजापति व बरहवाटोला के समाजसेवी मंगल सिंह के नेतृत्व में हिण्डालको महान के सीएसआर प्रमुख यसवंत कुमार ने आये हुये ग्रामीणों को मच्छरदानी प्रदान कर बताया कि कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है। अपितु तीसरी लहर आने की संभावना दिख रही है। इसलिये ज्यादा से ज्यादा लोग टीका लगवा लें। वे किसी भी भ्रम में न रहें कि टीका से शरीर को नुकसान पहुंच रहा है। उन्होंने कहा कि यह मच्छरदानी उन लोगों के लिये पारितोषिक है जिन्होंने टीकाकरण के प्रति सामाजिक जिम्मेदारी निभायी है। जो वाकई में देश से प्यार करते हैं वो टीके से इनकार नहीं कर सकते। टीके के बाद भी मास्क पहनकर बाहर निकलने की समझाइस भी दी गयी।

कार्यक्रम के सहयोगी

इस कोरोना टीकाकरण प्रोत्साहन कार्यक्रम में सीएसआर विभाग से विजय वैश्य बीरेन्द्र पाण्डेय भोला वैश्य, प्रभाकर वैश्य, संजीव वैश्य व देवेश त्रिपाठी शामिल हुये।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button