एनसीएल-सीएमडी ने जयंत में पुनर्नियोजित किया यमुना ड्रैगलाइन

सिंगरौली। मंगलवार को नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के सीएमडी प्रभात कुमार सिन्हा ने जयंत परियोजना की यमुना ड्रैगलाइन को खदान में पुन: स्थापित (री-कमीशन) किया। ड्रैगलाइन बूम के प्रतिस्थापन के जगह पर, इसकी मरम्मत कर पुनः नियोजित करने में लगभग 80 प्रतिशत से अधिक की आर्थिक बचत हुई है।

टीम के जज़्बे से ही संभव होते हैं असाधारण कार्य : सीएमडी

इस अवसर पर श्री सिन्हा ने कहा कि टीम एनसीएल के असाधारण कौशल व अथक प्रयासों के बलबूते ही इस तरह के बड़े व असंभव से दिखने वाले कार्य न्यूनतम लागत और उचित सुरक्षा के साथ रिकॉर्ड समय में पूरे हो जाते हैं। इस कार्य के निष्पादन हेतु अन्य कोयला क्षेत्रों से आवश्यक पुर्जों की आपूर्ति तथा विभिन्न एजेंसियों के साथ समन्वय हेतु प्रबंधन द्वारा किए गए प्रयासों को उन्होंने सराहा।

इस दौरान श्री सिन्हा ने जयंत खदान का निरीक्षण किया तथा मानसून की तैयारी एवं फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी (एफएमसी) परियोजनाओं के निर्माण कार्य की समीक्षा की। गौरतलब है कि ड्रैगलाइन, खनन कार्य में नियोजित विश्व की सबसे बड़ी मशीन है। एनसीएल की 6 खदानों के ओवरबर्डन हटाने के लिए 23 ड्रैगलाइन तैनात हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button