सब्जी दुकानों को हटवाने को लेकर हुआ बवाल, पुलिस व प्रशासन के लोगों पर हुआ पथराव

भगदड़ में कोतवाली प्रभारी का गिरा मोबाइल, स्थिति तनावपूर्ण

सिंगरौली। सोमवार को सब्जी विक्रेताओं और पुलिस-प्रशासन के बीच दुकानों को हटवाने की कवायद के बीच बवाल हो गया। इस घटना के बाद मौके पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। स्थिति काफी देर तक तनावपूर्ण बनी हुई थी।

घटना और माहौल

कोतवाली वैढ़न थाना क्षेत्र के ग्राम हिर्रवाह बस्ती में रिलायंस कन्वेयर बेल्ट के पास सब्जी व्यापारियों ने दुकानें लगा रखी थी। उन्हें वहाँ से हटाने पहुँचे प्रशासनिक अमले पर लोगों ने पथराव करना शुरू कर दिया। स्थिति को देखते हुए पुलिस ने पैर पीछे खींचा और वहां से लौट पड़े।

प्राप्त विस्तृत जानकारी के अनुसार सोमवार की सुबह नगर निगम सिंगरौली का अमला भ्रमण करते ग्राम हिर्वाह पहुंचा था। वहां लगी सब्जी की दुकानों से संबंधित व्यापारियों को दुकान हटाने के लिए सहमत करने का प्रयास किया। किंतु दुकानदार इसके लिए तैयार नहीं हुए। तब इसकी सूचना निगम के अधिकारियों ने एसडीएम एवं वैढ़न टीआई को दी। जिसके बाद एसडीएम सिंगरौली ऋषि पवार के साथ कोतवाली निरीक्षक अरुण पांडेय एवं सीएसपी देवेश पाठक दल बल के साथ वहाँ पहुँचे। बताया जाता है कि एसडीएम एवं पुलिस ने लोगों को दुकान बंद करने के लिए फटकार लगाने के साथ सख्ती भी दिखाई। इससे सब्जी व्यापारी भड़क गए और उन्होंने पथराव शुरू कर दिया। हालात बिगड़ते देख एसडीएम समेत पूरे प्रशासनिक अमले को वहां से भागना पड़ा। बताया जाता है कि इस दौरान कोतवाली प्रभारी का मोबाइल भी वहीं गिर गया। फिलहाल घटनास्थल पर अतिरिक्त बल भेजा गया है और स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।

पुलिस नम्रता दिखाए- बर्बरता नहीं

बीते 9 अप्रैल से ही सिंगरौली जिले में चरणबद्ध लॉकडाउन प्रभावी है। इस दौरान निम्न मध्य वर्गीय परिवारों के सामने जीविकोपार्जन को लेकर अनेक दिक्कतें सामने खड़ी हैं। ऐसी परिस्थितियों में पुलिस-प्रशासन का बर्बर व्यवहार लोगों की हताशा को आक्रोश के रूप में भड़काने का काम करती है। बताया जाता है कि रविवार सुबह करीब 10 बजे वैढ़न एक्सिस बैंक के सामने से गुजरते समय सीएसपी देवेश पाठक ने एक ठेले में सब्जी बेच रहे वृद्ध को लाठियों से पीटा। बीते समय में भी कुछ घटनाएं सामने आई हैं जो लोगों के प्रति पुलिस का कठोर व्यवहार दर्शाती हैं। प्रबुद्ध जनों का कहना है कि तनावपूर्ण इस वातावरण में प्रशासन को लोगों के साथ नरमी बरतनी चाहिए। सब्जी व्यवसाई जिनकी सब्जियां खेत में तैयार हैं, उनमें से अधिकांश के लिए यह संभव नहीं है कि वे घर घर जाकर ठेले पर सब्जियां बेच पाएं। ऐसी परिस्थितियों में उन्हें सब्जियां खराब होने का भी डर बना रहता है। ऐसे हालात में प्रशासन को समदर्शी दृष्टिकोण अपनाते हुए तथा कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के दृष्टिगत सजगतापूर्वक कदम उठाने की जरूरत है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button