शहडोल हरदा छतरपुर व नरसिंहपुर में शून्य, सिंगरौली में मिले दो पॉजीटिव

कोरोना मामले में इंदौर व भोपाल सबसे आगे

सिंगरौली। आम लोगों की लापरवाही के साथ ही प्रशासनिक स्तर पर ढिलाई के परिणामस्वरूप कोविड 19 नामक वैश्विक महामारी ने फिर से स्वच्छंद रूप से विचरण करना शुरू कर दिया है।

मास्क नहीं लगाने से बढ़ सकता है संक्रमण

सावधानी और सख्ती की जुगलबंदी से कोरोना वायरस परेशान था। वह लगभग ठहराव की स्थिति में आ गया था। लेकिन कोविड-रोधी वैक्सीन के लांच होने के बाद से रैपिड एंटीजन टेस्ट और पीसीआर टेस्ट की रफ्तार में कमी तथा आम लोगों द्वारा कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर के पालन के प्रति बरती गई लापरवाही ने कोरोना वाइरस को खुले में विचरण करने की फिर से आजादी मिल गई।

सिंगरौली जिले में पिछले दिनों से इक्के दुक्के नये पॉजिटिव प्रकरण भले ही आ रहे हैं, लेकिन कोरोना सेंसिटिव जिलों की सूची में पड़ोसी सीधी जिला के आ जाने से सिंगरौली जिले को बेहद सतर्क रहने की जरूरत है। मध्यप्रदेश में पिछले 24 घंटों में आए नये मामलों की फेहरिस्त में इंदौर (264) और भोपाल (156) सबसे ऊपर हैं। जबकि शहडोल हरदा छतरपुर और नरसिंहपुर में यह आंकड़ा निरंक रहा।

आज रात से इंदौर और भोपाल में नाइट कर्फ्यू लगाने के साथ ही आगामी आदेश तक सभी सार्वजनिक आयोजनों पर रोक लगा दी गई है। निजी कार्यक्रम के लिए भी प्रशासन की अनुमति लेनी होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान का कहना है कि सामान्य कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया गया तो लॉक डाउन करने की मजबूरी होगी। उन्होंने हालिया हासिल आंकड़ों के आधार पर जिलों को तीन प्रमुख श्रेणियों में बांटा है। बहरहाल सिंगरौली चौथी श्रेणी में है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button