बाघ बाघिन की दहाड़ से सहमे ग्रामवासी

मध्यप्रदेश के वन परिक्षेत्र पश्चिम सरई में दिखा टाइगर जोड़ा

वन विभाग की टीम उन्हें लोकेट करने के लिए रेडियो ट्रांसमीटर व ड्रोन का कर रही उपयोग

सिंगरौली। जिले के वन परिक्षेत्र पश्चिम सरई के भरसेड़ा जंगल में बाघ-बाघिन का जोड़ा देखे जाने से भरसेड़ा, झारा सहित आसपास के गांवो में हड़कंप मच गया। भयभीत ग्रामीणों ने इसकी जानकारी वन विभाग के लोगों को दी। सूचना के मिलने के बाद वन परिक्षेत्राधिकारी रामअवतार साहू टीम के साथ स्थल पर पहुंच गए। वन अमला स्थिति पर नजर बनाए हुए है। वन विभाग की टीम रेडियो ट्रांसमीटर और ड्रोन कैमरे का उपयोग कर टाईगर जोड़े को तलाशने तथा उनके मूवमेंट का पता लगाने के लिए कर रही है।

ज्ञात हो कि गत माह सरई के वन क्षेत्र में टाईगर के देखे जाने की खबर थी। लेकिन दो दिन के प्रयास के बाद भी टाईगर का कोई लोकेशन नहीं मिला। फिर भी वन अमला नजर बनाए हुए था। वहीं आज मंगलवार को सरई रेंज पश्चिमी के वन बीट झारा अंतर्गत भरसेड़ा गांव में नर-मादा टाईगर को ग्रामीणों ने देखने का दावा किया। वन विभाग के सूत्रों के मुताबिक नर-मादा टाईगर सीधी जिले के संजय टाईगर रिर्जव दुबरी के जंगल से भंवरखोह होते हुए सिंगरौली जिले के सीमावर्ती भरसेड़ा जंगल में पहुंच गए हैं। नर व मादा टाईगर में जीपीएस कॉलर लगा हुआ है। उनके चहलकदमी पर नजर रखी जा रही है। हालांकि अभी तक इस जोड़े ने किसी प्रकार की जनहानि नहीं की है।

फॉरेस्ट टीम ने डाला डेरा

भरसेड़ी के जंगल में टाइगर दम्पत्ति के आगमन की सूचना मिलते ही वन विभाग के लोग हरकत में आ गए। वन परिक्षेत्राधिकारी राम अवतार साहू व सहायक वन परिक्षेत्राधिकारी रविराज सिंह, फारेस्ट गार्ड राहुल तिवारी, प्रदीप दुबे व अन्य वनकर्मी तथा वन सुरक्षा समिति के सदस्य उक्त गांव में डेरा डाल दिये हैं।

इनका कहना है

वन परिक्षेत्राधिकारी पश्चिम सरई रामाअवतार साहू का कहना है कि भरसेड़ा जंगल में नर-मादा टाईगर देखे गए हैं। इन पर लगातार नजर रखी जा रही है। संजय टाईगर रिजर्व दुबरी के भंवरखोह जंगल से होते हुए यहां पहुचे हैं।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button