सीएमडी पी के सिन्हा के नेतृत्व वाली एनसीएल व एमसीएल ने कोयला प्रेषण में स्थापित किया नया कीर्तिमान

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। एनसीएल व एमसीएल के संयुक्त सीएमडी पीके सिन्हा के कुशल नेतृत्व में भारत सरकार की सिंगरौली स्थित मिनिरत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड के साथ ही ओड़ीशा में कार्यरत महानदी कोलफील्ड्स लि. ने कोयला प्रेषण के मामले में गत सोमवार को कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं।

एक ही दिन में प्रेषित किया रिकॉर्ड 4 लाख टन कोयला

सोमवार को एनसीएल ने स्थापना से लेकर अब तक एक दिन में सर्वाधिक कोयला प्रेषण किया है। एनसीएल ने एक दिन में 4 लाख टन कोयला प्रेषण कर अपने हाल ही में बनाए 3.87 लाख टन कोयला प्रेषण के पिछले रिकॉर्ड को तोड़ा है। एनसीएल ने सोमवार को बिजली घरों को भी एक दिन में स्थापना से लेकर सर्वाधिक कोयला प्रेषण किया है व 3.6 लाख टन कोयला बिजली घरों को भेजकर “बिजली की बुनियाद” की अपनी प्रतिबद्धता को सिद्ध किया है।

कोविड महामारी के कठिन समय में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सीएमडी श्री सिन्हा ने एनसीएल और एमसीएल को बधाई दी है। साथ ही एनसीएल के कार्यकारी निदेशक मण्डल ने भी टीम एनसीएल को अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की हैं।

9 लाख टन से अधिक कोयले का हुआ प्रेषण

श्री सिन्हा कोल इंडिया लिमिटेड की ओड़ीसा स्थित एमसीएल का भी नेतृत्व कर रहे हैं, जिसने सोमवार को 5.19 लाख टन कोयला प्रेषण किया है। एनसीएल व एमसीएल दोनों कंपनियों ने कुल मिलाकर इनके नेतृत्व में लगभग 9.19 लाख टन प्रेषण किया है।

रेलवे रैक से भी सर्वाधिक प्रेषण का बना रिकॉर्ड

एनसीएल ने सोमवार को एक दिन में देश के विभिन्न राज्यों के कोयला उपभोक्ताओं के लिए 42 रेलवे रैक भेजे हैं। यह एनसीएल द्वारा एक दिन में भेजे गए सर्वाधिक रैक हैं। साथ ही कंपनी ने सोमवार को कुल 111 रेलवे रैक कोयले का प्रेषण किया जिसमें से 69 मेरी गो राउंड (एमजीआर) रैक शामिल हैं।

NCL SINGRAUI

17% वृद्धि के साथ आगे बढ़ रही एनसीएल

एनसीएल ने अपने 126.5 मिलियन टन के वार्षिक कोयला प्रेषण के लक्ष्य का पीछा करते हुए, 17% की वार्षिक वृद्धि के साथ अब तक 49.76 मिलियन टन कोयले का प्रेषण कर लिया है। साथ ही कंपनी ने चालू वित्त वर्ष में अब तक 45.89 मिलियन टन कोयले का उत्पादन किया है।

एनसीएल देश को कोयला क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए व पर्यावरणीय अनुकूल तरीकों के माध्यम से कोयला प्रेषण करने के उद्देश्य से, लगभग 2700 करोड़ रुपये के पूंजीगत व्यय के साथ 9 फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी परियोजनाओं पर काम कर रही है।
एनसीएल अपनी 10 खुली कोयला खदानों में उच्च क्षमता वाली भारी मशीनों व कोल हैंडलिंग प्लांट, एमजीआर, रेलवे, बेल्ट पाइप कन्वेयर एवं अन्य कोयला प्रेषण तकनीकों का उपयोग करती है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button