हरकत में आई पुलिस: लव जिहादी पहुंचा सलाखों के पीछे

धर्म परिवर्तन कराकर रचाई थी शादी

सिंगरौली/सीधी। लव जिहाद के एक चर्चित मामले में पुलिस कप्तान सीधी पंकज कुमावत ने आरोपी को सलाखों के पीछे पहुंचवा दिया है। एसपी कुमावत ने इस मामले को संज्ञान लेते हुए 48 घंटे के अंदर ही प्रकरण पंजीबद्ध करते हुए आरोपी को सीखचों के पीछे पहुंचा दिया।

ये था पूरा मामला

पुलिस कप्तान पंकज कुमावत ने सिटी कोतवाली टीआई को कार्रवाई हेतु आदेशित किया। जहां कोतवाली पुलिस ने एफआईआर दर्ज करते हुए महज 48 घंटे के अंदर आरोपी को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है।

एफआईआर में दर्ज और पीड़िता के बयान के अनुसार ग्राम सिकरा निवासी इब्राहिम खान करीब 8 वर्ष से पीड़िता का शारीरिक तथा मानसिक शोषण कर रहा था। आरोपी द्वारा पीड़िता के ऊपर दबाव बनाकर जबरदस्ती धर्म परिवर्तन कराया गया और सुनीता साहू से उसे शिफा बेगम एवं पति के स्थान पर अपना नाम इब्राहिम खान लिखा दिया। आरोपी इब्राहिम खान द्वारा कोर्ट मैरिज की बात कहने पर पीड़िता की 9 वर्ष की मासूम बच्ची को जान से मारने की धमकी दे रहा था। वहीं इस दौरान आरोपी ने पीड़िता के साथ कई बार शारीरिक संबंध भी बनाए।

कोतवाली पुलिस ने प्रथम दृष्टया अपराध दर्ज करते हुए भारतीय दंड संहिता की धारा 376 (2) (एन) 506 एवं धार्मिक स्वतंत्रता विधि 2020, 3/5 के तहत मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश में जुट गई थी।

गुफा से ढूंढ निकाली कोतवाली पुलिस

लव जिहाद के आरोपी इब्राहिम खान ने छुपने के नाम पर यूपी के विकास दुबे को भी मात दे दिया था। वह जिस घर में छुपा था वह किसी गुफा से कम नहीं था। वहां तीन बड़े आंगन और हाल को पार करते हुए सामने तथा पीछे से 16 दरवाजे को खोलकर कोतवाली पुलिस आरोपी तक पहुंची। आरोपी के द्वारा पुलिस को चकमा देने हेतु सभी 16 दरवाजों पर बाहर से ताला बंद करवा दिया था ताकि पुलिस को लगे कि इस खंडहरनुमा घर में कोई नहीं है।

पुलिस ने कुछ यूं दिया कार्रवाई को अंजाम

जिस तरीके से लव जिहाद के आरोपी इब्राहिम खान को सीधी की सिटी कोतवाली पुलिस ने दबोचा है वह शायद अभी तक फिल्मों में ही दिखाया गया है।
उल्लेखनीय है कि बीते 19 अगस्त की दरमियानी रात सिटी कोतवाली टीआई को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई कि आरोपी सीधी जिले को छोड़कर गुजरात भागने के फिराक में है। तब कोतवाली टीआई ने मामले की जानकारी पुलिस कप्तान पंकज कुमावत को दी।

पुलिस कप्तान पंकज कुमावत के निर्देशानुसार रात में रात्रि 3 बजे के लगभग ही कोतवाली पुलिस की एक टीम गठित की गई जिसमें भरोसेमंद पुलिस कर्मियों को टीम में शामिल किया गया। वहीं भोर होते-होते गठित टीम मड़वास चौकी के अंतर्गत गुप्त रूप से आरोपी के गांव सिकरा पहुंची। आरोपी का घर बहुत बड़ा तथा गुफा नुमा होने के कारण पुलिस भी एक बार चकरा गई थी। लेकिन गठित पुलिस टीम के जवानों ने चालाकी से काम करते हुए पूरे घर को एक साथ घेर लिया। घेराबंदी करने के बाद पुलिस के जवानों ने ऊपर से दीवार फांदकर घर के अंदर प्रवेश किया।

अंदर प्रवेश करने के बाद घर के आगे और पीछे से 16 दरवाजों में बाहर से ताला बंद था पुलिस ने आरोपी को चेतावनी देते हुए ताला खोलने के लिए बोला, लेकिन आरोपी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी जिस पर पुलिस ने तकनीकी दक्षता के साथ तालों को खोलते हुए 3 आंगन को पार करते हुए 16 नंबर के कमरे तक पहुंची जहां पुलिस ने आखरी दरवाजे को खोलते हुए आरोपी को दबोच लिया।

सुर्खियों में बना हुआ था यह मामला

उल्लेखनीय है कि जिले में लव जिहाद का पहला मामला होने के कारण पूरे जिले में इसकी चर्चा हो रही थी। शिवसेना ने भी जिला अध्यक्ष विवेक पांडे के नेतृत्व में इस मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। वहीं विश्व हिंदू परिषद के जिला महामंत्री पुजारी लाल मिश्रा भी मामले को लेकर काफी सक्रिय रहे। इस मामले में प्रशासन के ठोस कार्रवाई को लेकर सामाजिक संगठनों ने सराहा तथा त्वरित कार्रवाई करने के लिए पुलिस को धन्यवाद ज्ञापित किया है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button