अभिनय के लिए दूसरे के जीवन को समझना आवश्यक

आर्ट ऑन क्लिक द्वारा आयोजित नाट्य कार्यशाला से देश भर के कलाकारों को मिली नई राह

सिंगरौली/सीधी। आर्ट ऑन क्लिक द्वारा आयोजित 4 दिवसीय ऑनलाइन थियेटर वर्कशॉप के दूसरे व तीसरे दिन भी नियत समय से प्रशिक्षण शुरू हुआ जो पद्मश्री वामन केन्द्रे भूतपूर्व निदेशक राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के द्वारा अनवरत दिया जा रहा है।

तीसरे दिन नाटक का दृश्य दिखाकर उसके अभिनय और शैली पर विशेष चर्चा हुई।तदुपरांत अभिनय शैली और उसके तरीके क्या होना चाहिए व चरित्रों का निर्माण कैसे होता है ? इस विषय पर विस्तार से चर्चा करते हुए नाट्य प्रशिक्षक केन्द्रे ने बताया कि अभिनय के लिए दूसरे के जीवन को समझना जरूरी है, अभिनय में क्रियाशीलता लाने के लिए अभिनेता को हमेशा आधुनिक रहना पड़ेगा।
उन्होंने कहा कि इस कार्यशाला की चर्चा सम्पूर्ण देश में तो है ही साथ ही अन्य देशों में भी है। आर्ट ऑन क्लिक द्वारा आयोजित कार्यशाला देश भर के कलाकारों को नई राह मिली है।

उल्लेखनीय है कि थियेटर की दुनिया में वामन केन्द्रे एक बड़ा नाम है और ऐसे नाट्य विशेषज्ञ द्वारा प्रशिक्षण दिया जाना बेहद सौभाग्य का विषय है।
प्रशिक्षण उपरांत नीरज कुंदेर द्वारा श्री केन्द्रे का आभार व्यक्त किया गया।
सहयोगी संस्थान के रूप में आशीष पाठक समागम रंगमंडल जबलपुर, अभिषेक पंडित सूत्रधार आजमगढ़, मनीष जोशी अभिनय रंगमंच हिसार, डॉ. हिमांशु द्विवेदी बुंदेलखंड नाट्य कला समिति झांसी, देबाशीष दत्ता इफ्टा कलकत्ता, प्रिया झा अछिन्जल बिहार, अनुराधा जोशी मुक्ताई प्रतिष्ठान देगलूर नान्देड़, सतीश सालुंके परिवर्तन प्रतिष्ठान महाराष्ट्र, अनघा देशपांडे, अभिव्यक्ती-पणजी गोवाअक्षय शिम्पी मुम्बई, प्रवीण सिंह ट्रांसफ्रेम मुम्बई, नीरज कुन्देर इन्द्रवती नाट्य समिति सीधी का योगदान रहा जबकि सहयोगी साथी के रूप में रोशनी प्रसाद मिश्र, रजनीश जायसवाल, प्रजीत साकेत , स्वप्निल, ऋत्विक केंद्रे, नूपुर मेहता व आर्ट ऑन क्लिक के निदेशक शिवा कुन्देर व सहयोगी समिति को शुभकामनाएं देते हुए कोविद – 19 के नियमों की पालन की अपील की है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button