अक्तूबर के पहले सप्ताह होगी कोयला कर्मचारियों के वार्षिक बोनस को लेकर द्विपक्षीय बैठक

इससे पहले पाँचों ट्रेड यूनियनों की अलग अलग और संयुक्त रूप से भी हो सकती है मीटिंग

सिंगरौली/कोलकाता। कोल इंडिया के कोयला कर्मचारियों के वार्षिक बोनस को लेकर सीआईएल प्रबंधन और यूनियन के बीच अक्टूबर के पहले सप्ताह में द्विपक्षीय बैठक होगी। इस हेतु अभी तारीख तय नहीं हुई है।

हरकत में आए श्रमिक संघ

बोनस निर्धारण हेतु होने वाली इस बैठक के पूर्व सभी यूनियन अलग अलग मीटिंग करेंगे। कयास लगाया जा रहा है कि सभी यूनियन अपने अपने ड्राफ्ट के साथ संयुक्त रूप से भी बैठक कर सकते हैं। तदोपरांत वार्षिक बोनस का डिमांड तय कर प्रबंधन के साथ होने वाली द्विपक्षीय बैठक में सम्मिलित होंगे। बीएमएस के पदाधिकारी ने बताया कि सभी यूनियन के लोग आपस में चर्चा करेंगे। संयुक्त रूप से ही बोनस की राशि निर्धारित की जाएगी और श्रमिक हितों को ध्यान में रखकर प्रबंधन से चर्चा की जाएगी।

वित्त वर्ष 2020-21 में सीआईएल का मुनाफा बढ़ा

उल्लेखनीय है कि 2020-21 में कोल इंडिया लिमिटेड का मुनाफा बढ़ा है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में सीआईएल को 18,009.24 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ। जबकि 2019-20 में मुनाफे का आंकड़ा 16,700 करोड़ रुपए ही था। इसके आलोक में कर्मचारियों को अधिक बोनस राशि मिलने की उम्मीद है।

75 हजार के लगभग हो सकता है बोनस

2020 में कोयला कामगारों को 68,500 रुपए बोनस के तौर पर दिए गए थे। यह रकम 2019 के मुकाबले 6.5 फीसदी अधिक थी। 2019 में 64,700 रुपए का बोनस मिला था। देखना होगा इस साल बोनस की राशि क्या होगी। कहा जा रहा है बोनस 75 हजार के भीतर ही रह सकता है।

पिछले 10 वर्षों में मिले बोनस पर एक दृष्टि

2011 –₹  21,000
2012 –₹  26,000
2013 –₹  31,500
2014 –₹  40,000
2015 –₹  48,500
2016 –₹  54,000
2017 –₹  57,000
2018 –₹  60,500
2019 –₹  64,700
2020 –₹  68,500

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button