अभिषेक आनन्द की लिखी किताब ‘बैनिटी बैग’ का हिण्डालको महान के परियोजना प्रमुख रतन सोमानी ने किया विमोचन

भारतीय साहित्य संग्रह कानपुर द्वारा प्रकाशित है यह पुस्तक

हिण्डालको महान के परियोजना प्रमुख रतन सोमानी विमोचन करते हुए, साथ में लेखक अभिषेक आनंद

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। हिण्डालको महान के परियोजना प्रमुख रतन सोमानी ने क्लब हाउस में इंजीनियर अभिषेक आनंद की लिखी पुस्तक वैनिटी बैग का विमोचन करते हुये कहा कि किताबें जीवन की मित्र होती हैं। जिसने भी इन्हें सच्चे दिल से अपना साथी बना लिया उसने जीने की कला सीख ली। उन्होंने कहा कि लोग अपने पैशन के लिये समय नहीं निकाल पाते, लेकिन अभिषेक ने यह बता दिया कि अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुये भी अपने शौक को यथार्थ में बदला जा सकता है। यदि आप किताबों के शौकीन हैं तो अच्छी किताबें आपको अपनी ओर खींचती हैं। उन्हीं में से एक है ‘बैनिटी बैग’ नामक किताब।

पुस्तक परिचय

प्रकाशित पुस्तक

बैनिटी बैग में क्या है, यह जानने की जिज्ञासा स्वाभाविक है। इस बैनिटी बैग में आज के समाज के बीच ईर्ष्या, द्वेष अनुमान और प्रतिस्पर्धा से जन्मे व्यंग्य हैं जिन्हें लेखक अभिषेक आनन्द ने इस किताब में परोसने का काम किया है।

किसी वैवाहिक स्त्री के श्रृंगार बस्ते में उनके सजने-संवरने के लिए जरूरी सभी चीजें होती हैं, ऐसा ही इस किताबी बैग में है। इसमें समाज में घटित घटनाएं परिचर्चा व सामाजिक ताने-बाने से उत्पन्न व्यंग्य का संग्रह है। ऐसे पाठक जो समाज में हो रहे समाजिक समीक्षा को चटकारे लगाकर पढ़ना चाहते हैं यह किताब उन्हीं लोगों के लिये है।

लेखक परिचय

इस किताब को लिखने वाले अभिषेक आनन्द मूलतः दरभंगा बिहार के रहने वाले हैं। वे पेशे से इन्जीनियर हैं व हिण्डालको महान में सीनियर इन्जीनियर के पद पर पदस्थ हैं। इन्हे बचपन से ही गीत, गजल व कहानियां लिखने का शौक रहा है। अभिषेक आनन्द ने यह किताब स्वयं के आस-पास हुई जीवंत घटनाओं को व्यंग्य की चासनी में प्रस्तुत किया है। इनकी लेखनी वास्तविकता का अनुभव कराती है। इसमें 14 कहानियां हैं जिसमें 9 कहानियां जीवन्त व्यंग्य और शेष 5 कल्पना के कैनवास पर उकेरा गया व्यंग्य।

पुस्तक के प्रकाशक

इस किताब को ‘भारतीय साहित्य संग्रह कानपुर’ द्वारा प्रकाशित किया गया है। यह किताब अमेजन साइट पर भी मूल्य 250 रुपये में उपलब्ध है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button