टीएल की बैठक में कलेक्टर मीना ने सभी विभागों के कसे पेंच

बरसात के पानी के निकासी हेतु अभियान चलाने को कहा

सिंगरौली। कोविड काल में लंबे अरसे बाद हुई टीएल बैठक में कलेक्टर राजीव रंजन मीना ने जिले के सभी प्रमुख विभागों के जवाबदेह अफसरों को कड़े निर्देश दिये हैं। बारिस के पानी निकासी हेतु शहर के नाले एव नालियों की अभियान चलाकर सफाई करायें तथा बाढ़ राहत कार्य हेतु गठित आपदा प्रबंधन दल हर समय चौकन्ना रहे ताकि आवश्यकता पड़ने पर तत्काल राहत एवं बचाव कार्य किया जा सके। कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित समय सीमा बैठक के दौरान कलेक्टर राजीव रंजन मीना के द्वारा संबंधित अधिकारियों को दिया गया। कलेक्टर ने विगत दिवस अत्यधिक बर्षा के दौरान जल निकासी से संबंधित समस्याओं को मद्देनजर रखने के साथ ही किसी प्रकार की जन हानि एवं पशु हानि ना हो इसके लिए शहरी क्षेत्र के लिए नगर निगम आयुक्त को पानी निकासी हेतु जिम्मेदारी सौपी। वहीं जिले में स्थापित औद्योगिक कंम्पनियो के ओबी डम्प एवं ऐस डाईक आदि से किसी भी प्रकार जन हानि न हो इसके लिए जल निकासी हेतु उचित व्यवस्था किये जाने हेतु संबंधित कंम्पनियो को नोटिस जारी करने हेतु सभी उपखण्ड अधिकारियों को निर्देश दिये कि अपने अपने क्षेत्र में स्थापित कम्पनियों को नोटिस जारी कर बरसात में किसी भी प्रकार की जन हानि पशु हानि न हो इसके लिए व्यवस्था सुनिश्चित करायें। वहीं नगर निगम एवं कलेक्ट्रेट में बाढ़ राहत हेतु बनाये गये कंट्रोल रूम के संचालन सहित प्राप्त आवेदनों पर की गई कार्यवाही की जानकारी ली गई। कलेक्टर ने कहा कि मेरे द्वारा कंट्रोल रूम का औचक निरीक्षण किया जायेगा किसी भी प्रकार की कमी मिली तो संबंधित के विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी।

नकली खाद बीज का विक्रय करने वालों पर करें कार्यवाही

कलेक्टर मीना ने उप संचालक कृषि को निर्देश दिये कि जिले मे संचालित खाद बीज दुकानो का राजस्व एवं कृषि विभाग की टीम संयुक्त रूप से निरीक्षण करें। दुकानों में उपलब्ध खाद बीज का सैम्पल लें तथा नकली खाद बीज विक्रय करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही कर दुकानों को भी सील करें। बैठक के दौरान विद्युत विभाग की समीक्षा करते हुये कलेक्टर ने जिले की विद्युत व्यवस्था से संबंधित आवेदनों का निराकरण एवं जले हुये ट्रान्सफार्मर सहित विद्युत की संप्लाई व्यवस्था सुचारू रखने एवं देवसर ब्लाक के साथ साथ जिन स्थानों पर आंधी बारिस के कारण तार टूट गये हैं उनका सुधार कराये जाने के निर्देश अधीक्षण यंत्री विद्युत को दिया गया। कलेक्टर मीना ने सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिये कि राजस्व से संबंधित प्रकरणों नामांतरण, वंटनवारा, पुल्ली फाट के लंबित प्रकरणों का समय सीमा में निराकरण करायें तथा पूर्व में दिये गये निर्देशों का पालन करते हुये सभी विभागीय अधिकारी एवं कर्मचारियों की उपस्थिति सार्थक पोर्टल पर दर्ज की जाय। उन्होंने निर्देश दिये कि समय सीमा बैठक जो प्रति सोमवार को आयोजित होती है, इस दिन जिले का कोई भी अधिकारी बिना अनुमति के जिले से बाहर नहीं जायेगा।

कलेक्टर मीना ने हितग्राही मूलक योजनाओं के लंबित प्रकरणों का निराकरण समय पर किये जाने के साथ साथ निर्धारित लक्ष्य के अनुसार पात्र हितग्राहियों को लाभ मुहैया कराये जाने के निर्देश दिये गये। उन्होंने निर्देश दिया कि मुख्यमंत्री द्वारा कोविड 19 के दौरान दिये गये निर्देशों के परिपालन में किसी भी विभाग के अधिकारी कर्मचारी को कोविड 19 गाईड लाईन के तहत दी जाने वाली अनुकम्पा नियुक्त के साथ अन्य प्रकरणों का तत्परता से निराकरण किया जाय।

आवेदनों के सप्ताह भर में हो निराकरण

कलेक्टर ने सीएम हेल्पलाईन समय सीमा बैठक में प्राप्त आवेदन पत्रों के निराकरण के प्रगति की जानकारी लेने के पश्चात निर्देश दिये कि जिन विभागों में अधिक आवेदन लंबित हैं उनका निराकरण एक सप्ताह के अंदर किया जाय।

समय सीमा में पूर्ण हों प्राथमिकता के विकास कार्य

वही कलेक्टर के प्राथमिकता के बिंंदुओं मेंं शामिल बड़े कार्यों जैसे हवाई पट्टी के निर्माण कार्य मेडिकल कालेज गोंड सिचाई परियोजना सरई बाई पास रोड के प्रगति की समीक्षा करते हुये निर्देश दिये गये कि कार्यो मे गति लाई जाये। हवाई पट्टी का कार्य समय सीमा के अंदर पूर्ण कराया जाना सुनिश्चित करें।कलेक्टर मीना ने नगर निगम के कार्यपालन यंत्री को निर्देश दिये कि शहर में जनमानस के मांग एवं सुविधा के तहत आवश्कतानुसार आवागमन हेतु कार्य योजना बनाकर प्रस्तुत करें तथा वर्तमान मे चल रहे निर्माण कार्यों को गुणवत्ता के साथ पूर्ण करायें ताकि वर्षा काल के दौरान लोगों के आवागमन में किसी भी प्रकार की असुविधा न हो। वहीं वनाधिकार के लंबित प्रकरणों का निराकरण उपखण्ड स्तर पर किये जाने हेतु संबंधित उपखण्ड अधिकारियो को
निर्देश दिये गये। उन्होंने निर्देश दिया कि जिन प्रकरणों का निराकरण किया जा चुका है उन्हें जिलास्तरीय समिति के समक्ष प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये। उन्होंने निर्देश दिया कि जिन्हें वनाधिकार का पट्टा प्राप्त हो चुका है उन्हें पात्रतानुसार जन कल्यणकारी योजनाओं का लाभ दिया जाना सुनिश्चित करें।

बैठक में उपस्थिति

बैठक के दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी साकेत मालवीय, अपर कलेक्टर डीपी बर्मन, एसडीएम ऋषि पवार, सम्पदा सर्राफ, डिप्टी कलेक्टर एसपी मिश्रा, अधीक्षण यंत्री एसपी तिवारी, तहसीलदार जीतेन्द बर्मा, जान्हवी शुक्ला, दिव्या सिंह, उप संचालक कृषि आशीष पाण्डेय, खनिज अधिकारी एके राय उपस्थित रहे।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button