एनसीएल के सौजन्य व सीपेट की मदद से प्लास्टिक इंजीनियरिंग में प्रशिक्षण लेंगे स्थानीय युवा

एनसीएल द्वारा प्रशिक्षुओं के चयन हेतु लगा दो दिवसीय शिविर सम्पन्न

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। स्किल इंडिया मुहिम के तत्वावधान में, कोल इंडिया की अनुषंगी कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) ने सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सीपेट) चेन्नई की मदद से एनसीएल के आस पास रहने वाले युवाओं को रोजगारपरक प्रशिक्षण देने की मुहिम के तहत ब्लॉक बी, निगाही एवं खड़िया क्षेत्र में दो दिवसीय शिविरों का आयोजन किया। बुधवार और गुरुवार को आयोजित इन शिविरों में प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए पात्रता रखने वाले 345 अभ्यर्थियों का चयन किया गया।

भोपाल ग्वालियर लखनऊ में दिया जाएगा प्रशिक्षण

शिविर के दौरान चुने गए अभ्यर्थियों को सीपेट द्वारा भोपाल, ग्वालियर, लखनऊ स्थित केन्द्रों पर प्लास्टिक इंजीनियरिंग ट्रेड के अंतर्गत प्लास्टिक प्रसंस्करण, इंजेक्शन मोल्डिंग, ब्लो मोल्डिंग, प्लास्टिक रीसाइक्लिंग जैसे अनेक संवर्गों में प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसमें से कुछ संवर्गों के लिए कक्षा 10 व अन्य के लिए कक्षा 8 उत्तीर्ण की योग्यता निर्धारित की गयी है। इस कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत एनसीएल के आस पास के 500 बेरोजगार ग्रामीण युवाओं को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य तय किया गया है।

निःशुल्क रहेगा प्रशिक्षण

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के पाठ्यक्रम शुल्क, पाठ्यक्रम सामग्री, वर्दी, प्रशिक्षण किट, आवास और प्रशासनिक शुल्क को मिलाकर इसकी कुल लागत 70,000/- प्रति उम्मीदवार पड़ेगी जिसका भुगतान एनसीएल निगमित सामाजिक दायित्व के तहत करेगी।

प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए अधिक से अधिक अभ्यर्थियों का नामांकन कराने हेतु आस पास के क्षेत्र में व्यापक प्रचार व प्रसार किया गया। इसके तहत लिफ्लेट, पोस्टर के अलावा स्थानीय सरपंच, वार्ड मेम्बर इत्यादि की मदद से अधिक से अधिक लोगों तक जानकारी पहुंचाई गयी।

गौरतलब है कि यह प्रशिक्षण कार्यक्रम राष्ट्रीय कौशल योग्यता फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ) द्वारा तय मापदण्डों के अनुसार तैयार किया गया है और साथ ही राष्ट्रीय कौशल योग्यता समिति (एनएसक्यूसी) द्वारा स्वीकृत है। कंपनी ने इस कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षित अधिकतम अभ्यर्थियों को रोजगार / स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button