एनसीएल ने 62 भू- धारकों को बांटा रु 3.06 करोड़ का मुआवजा और 233 दिव्यांगों को कृत्रिम अंग व सहायक उपकरण

 

सिंगरौली। भारत सरकार की मिनीरत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड की जयंत परियोजना ने एक बार पुनः मेढ़ौली ग्राम के 62 भू-धारकों को लगभग रु. 3.06 करोड़ का मुआवजा वितरित किया।
जयंत क्षेत्र के महाप्रबंधक आर बी प्रसाद द्वारा सभी भू धारकों को मुआवजे के चेक सौंपे जाने के दौरान श्री प्रसाद ने मेढ़ौली ग्राम के लोगो की समस्याओं को सुना तथा उनके त्वरित निवारण हेतु हर संभव प्रयास करने का आश्वासन दिया।

जारी विज्ञप्ति में बताया गया कि मेढ़ौली ग्राम के भू-विस्थापितों के मुआवजा वितरण के लंबित कार्य को एनसीएल प्रबंधन प्राथमिकता देते हुए शीघ्र ही पूर्ण करने का प्रयास कर रहा है।

दिव्यांग जनों में बांटे 50 लाख मूल्य के उपकरण

मंगलवार को सामाजिक निगमित दायित्व के तहत, नेहरू शताब्दी चिकित्सालय में दिव्यांगजनों के लिए सहायक सामग्री और उपकरणों के वितरण हेतु आयोजित शिविर में 50 लाख की लागत से 233 दिव्याङ्गजनो को मोटराइज्ड ट्राइसाइकिल, स्मार्ट केन, हियरिंग एड जैसे सहायक उपकरण व कृत्रिम अंग उपलब्ध कराये गए। साथ ही उन्हें दिए गए सहायक उपकरणों एवं कृत्रिम अंगों के समुचित उपयोग व रख-रखाव हेतु विशेषज्ञों द्वारा जानकारी भी दी गयी।

इनकी रही विशेष उपस्थिति

कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए आयोजित इस शिविर में सांसद रीति पाठक, विधायक सिंगरौली रामलल्लू बैस, विधायक देवसर सुभाष रामचरित्र वर्मा, कलेक्टर सिंगरौली राजीव रंजन मीणा, सीएमएस एनसीएल डॉ. एसके भोवाल, मुख्य प्रबंधक (कार्मिक) एनएससी रमेश सिंह तथा अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

बताया गया कि एनसीएल ने भारत सरकार के एक अन्य उपक्रम भारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम (एलिम्को) के साथ मिलकर सिंगरौली व सोनभद्र जिले के 233 दिव्यांगजनों को कृत्रिम अंग व उपकरण वितरण करने हेतु चिन्हित किया था। शिविर के आयोजन में एलिम्को एवं जिला प्रशासन का विशेष योगदान रहा।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button