एनसीएल शीर्ष प्रबंधन ने किया खदानों का दौरा

मांग के अनुरूप कोयला उत्पादन व प्रेषण के लिए दिये निर्देश, इस कवायद को ट्रेड यूनियनों की घोषित हड़ताल से जोड़कर देखा जा रहा है

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। शुक्रवार को भारत सरकार की मिनीरत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड एनसीएल के शीर्ष प्रबंधन ने मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश में स्थित विभिन्न परियोजनाओं में कोयला उत्पादन व प्रेषण, मशीनों के परिचालन व अनुरक्षण इत्यादि का जायजा लिया तथा राष्ट्र की ऊर्जा संरक्षा में जुटे कर्मियों का मनोबल बढ़ाया।

सीएमडी ने केन्द्रीय कर्मशाला का किया निरीक्षण

शुक्रवार को सीएमडी एनसीएल प्रभात कुमार सिन्हा ने केन्द्रीय कर्मशाला,जयंत का निरीक्षण किया और वहाँ के कामकाज की समीक्षा की। एनसीएल के मशीनी बेड़े में 1250 से अधिक भारी मशीनें शामिल हैं जिनके अनुरक्षण/रखरखाव का कार्य केन्द्रीय कर्मशाला में किया जाता है। इन मशीनों के बलबूते देश के कुल कोयला उत्पादन में एनसीएल की हिस्सेदारी लगभग 15 प्रतिशत से अधिक की है।

निदेशक (तकनीकी/संचालन) ने किया निगाही व अमलोरी का दौरा

इसी क्रम में निदेशक (तकनीकी/संचालन) डॉ अनिंद्य सिन्हा ने निगाही व अमलोरी खदान में कोल फेस, कोल हैंडलिंग प्लांट (सीएचपी), व्हार्फवॉल का निरीक्षण कर उत्पादन व प्रेषण की स्थिति का जायजा लिया एवं जरूरी निर्देश दिये।

निदेशक (वित्त एवं कार्मिक) ने खदान का किया निरीक्षण

एनसीएल के निदेशक (वित्त एवं कार्मिक) राम नारायण दुबे ने बीना क्षेत्र में डिसेलिंग प्लांट, व्हार्फवॉल, सर्फ़ेस माइनर के संचालन का निरीक्षण कर आवश्यक दिशानिर्देश दिये।

निदेशक (तकनीकी/परियोजना एवं योजना) ने किया दुधिचुआ का दौरा

निदेशक (तकनीकी/परियोजना एवं योजना), एनसीएल एस एस सिन्हा ने दूधिचुआ क्षेत्र का दौरा कर व्यू पॉइंट, खदान व मशीनों के संचालन का निरीक्षण किया और जरूरी दिशा निर्देश दिये।

गौरतलब है कि कोविड काल के उपरांत बिजली घरों में अचानक बढ़ी हुई कोयला मांग को ध्यान में रखते हुए एनसीएल शीर्ष प्रबंधन उत्पादन, प्रेषण, मशीनों के रखरखाव व उपलब्ध्ता पर लगातार निगरानी रख रहा है। जिससे कोयला आपूर्ति में निरंतरता को बनाए रखा जा सके। एनसीएल के शीर्ष प्रबंधन की इस कवायद को आगामी 4 व 5 अक्तूबर को ट्रेड यूनियनों के संयुक्त फ्रंट द्वारा घोषित कोयला डिस्पैच को बाधित करने एवं 6 अक्तूबर को कंपनी स्तर पर संभावित हड़ताल से भी जोड़ा जा रहा है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button