एनसीएल के नेहरू शताब्दी चिकित्सालय में सुना गया प्रधानमंत्री मोदी का उद्बोधन

विधायक सिंगरौली ने की एनसीएल के ऑक्सीज़न प्लांट की सराहना

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। गुरुवार को मिनीरत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) के नेहरू शताब्दी चिकित्सालय में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के उद्बोधन को सुना गया। एम्स ऋषिकेश, उत्तराखंड में आयोजित कार्यक्रम के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विभिन्न राज्यों/ केन्द्र शासित प्रदेशों के लिए पीएसए (प्रेसर स्विंग एब्ज़ोर्बशन) आक्सीजन प्लांट राष्ट्र को समर्पित करने के अवसर पर बोल रहे थे।

एनएससी चिकित्सालय परिसर सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान सिंगरौली के विधायक रामलल्लू बैस मुख्य अतिथि थे। इस दौरान एनएससी के चिकित्सक व पैरामेडिकल स्टाफ भी उपस्थित रहे।

एनएससी में लगे ऑक्सीज़न प्लांट को देखा

कार्यक्रम के उपरांत विधायक व अन्य लोगों ने परिसर में नवनिर्मित पीएसए आक्सीजन प्लांट का भी जायजा लिया। इस दौरान चिकित्सा प्रमुख, एनसीएल डॉक्टर एसके भुवाल एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ० विवेक खरे ने ऑक्सीजन प्लांट से जुड़ी बारीकियों के बारे में विस्तार से बताया। विधायक सिंगरौली रामलल्लू बैस ने ऑक्सीज़न प्लांट लगाने के लिए एनसीएल प्रबंधन की सराहना की और विश्वास जताया कि इससे आस पास के नागरिकों को बेहतर चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी।

मध्य प्रदेश के 5 मेडिकल कॉलेज व एम्स भोपाल में ऑक्सीजन प्लांट के लिए एनसीएल ने दिये हैं 11.75 करोड़

एनसीएल ने निगमित सामाजिक दायित्व (सीएसआर) के तहत मध्य प्रदेश सरकार के लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग को 10 करोड़ की धनराशि प्रदान की थी जिससे भोपाल, इंदौर, रीवा, जबलपुर और सागर में संचालित मेडिकल कॉलेजों में 1500 एलपीएम क्षमता के पाँच पीएसए ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किए जाएंगे।
साथ ही कम्पनी ने अपने सीएसआर मद से एम्स, भोपाल में भी एक ऑक्सीजन जेनरेटिंग प्लांट की स्थापना हेतु 1.75 करोड़ की सहायता राशि दी है।

नेहरू शताब्दी चिकित्सालय में संचालित हैं 2 ऑक्सीज़न प्लांट

कम्पनी ने अपने कर्मियों, उनके परिजनों सहित आस पास के निवासियों के लिए नेहरू शताब्दी चिकित्सालय में सिंगरौली क्षेत्र के सबसे बड़े चिकित्सीय ऑक्सीज़न संयंत्र की स्थापना की है। इसका लोकार्पण महात्मा गांधी की जयंती के शुभ अवसर पर सीएमडी एनसीएल प्रभात कुमार सिन्हा ने किया था। 2.53 करोड़ की लागत से तैयार इस संयंत्र की कुल क्षमता 1200 एलपीएम है। इस संयंत्र की मदद से नेहरू चिकित्सालय में 150 बिस्तरों तक पाइप के माध्यम से ऑक्सीज़न पहुंचाई जा सकेगी। एनसीएल की इस पहल से राज्य की कोविड के खिलाफ मुहिम को भी मजबूती मिलेगी।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button