बरगवां में दिव्यांग विद्यार्थियों के लिए 10 करोड़ की लागत से बन रहा विद्यालय-सह-छात्रावास “आश्रय”

दिव्यांग विद्यार्थियों को शिक्षित व सशक्त कर रही एनसीएल

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। भारत सरकार की मिनीरत्न कंपनी नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमटेड (एनसीएल) आज़ादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत, ग्राम पंचायत-डगा, बरगवां में 10 करोड़ रुपये की लागत से दिव्यांगजनों के लिए विद्यालय-सह-छात्रावास का निर्माण करवा रही है।
एनसीएल द्वारा निगमित सामाजिक दायित्व के तहतनिर्मित इस छात्रावास -आश्रय में दिव्यांग छात्र व छात्राओं के लिए विद्यालय एवं छात्रावास दोनो की ही व्यवस्था की जा रही है जिससे उनके शैक्षिक उत्थान एवं सर्वांगीण विकास में मदद मिलेगी।

एनसीएल के निगाही क्षेत्र के सीएसआर से बन रही इस परियोजना के तहत 14 कमरों का छात्रावास, 5 कक्षायेँ, 5 प्रयोगशाला, पुस्तकालय, व्यायामशाला इत्यादि का निर्माण कार्य तेज़ी के साथ प्रगति पर है। इसका निर्माण इसी वर्ष दिसंबर माह तक पूरा करने का लक्ष्य है।

तीन वर्षों तक एनसीएल करेगी संचालन

इस विद्यालय-सह- छात्रावास का निर्माण कार्य पूरा होने के पश्चात आगामी तीन वर्षों तक इसका रख-रखाव व संचालन, 100 विद्यार्थियों के लिए फर्नीचर, बिस्तर, बर्तन, किताबें, भोजन, शिक्षकों / कर्मचारियों के लिए पारिश्रमिक इत्यादि की व्यवस्था एनसीएल द्वारा 2 करोड़ रुपये की लागत से की जाएगी। तीन वर्षों के उपरांत इस छात्रावास की देखरेख जिला प्रशासन, सिंगरौली के सौजन्य से की जाएगी।

एनसीएल ने दिव्यांगजनों की मदद हेतु पूर्व में भी किए हैं प्रयास

एनसीएल ने भारत सरकार के एक अन्य उपक्रम भारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम (एलिम्को) के साथ एमओयू कर विगत चार वर्षों में 763 दिव्यांगजनों को कुल 1423 कृत्रिम अंग व सहायक उपकरण जैसे मोटराइज्ड ट्राइ साइकिल, स्मार्ट केन, हियरिंग ऐड इत्यादि वितरित किए हैं।
गौरतलब है कि एनसीएल ने वर्ष 2020-21 में सीएसआर के निर्धारित बजट का 110 प्रतिशत खर्च कर लगभग 130 करोड़ की धनराशि से समाजोत्थान के कार्य किए हैं।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button