अनैतिक संबंध के कारण हुई शंखलाल की हत्या, हत्यारोपी तीन व्यक्ति गिरफ्तार

शंखलाल हत्याकांड का मोरवा पुलिस ने किया खुलासा

singraulitimes.com

मध्य प्रदेश, सिंगरौली
बुधवार, 16 नवंबर को ग्राम सिधार के जंगल में मिले शव के मामले का खुलासा करते हुए मोरवा पुलिस ने इस प्रकरण में तीन आरोपियों को  गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश कर दिया। बताया गया है कि अवैध संबंध के कारण शंखलाल खैरवार की हत्या कर दी गई थी।

एक सप्ताह से गायब शंखलाल खैरवार का शव बुधवार को सिंधार के जंगल में मिलने पर पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र कुमार सिह के दिशा निर्देश एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शिव कुमार वर्मा के एवं एसडीओपी राजीव पाठक के मार्ग दर्शन में मोरवा थाना प्रभारी यूपी सिंह दलबल के साथ मौके के मुआयना कर संदेही रामकुमार उर्फ अन्ने पनिका निवासी सिधार तेन्दुहवा टोला की पता तलाश ग्राम सिधार एवं आस पास के जंगल में की गई। विवेचना के दौरान मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई कि तेन्दुहवा टोला सिधार का रामकुमार उर्फ अन्ने उसके साथ हरिमंगल उर्फ मंगरू पनिका और रामकृत उर्फ रामप्रीत के साथ जंगल की ओर एकांत में जा रहे थे कि सूचना पर सवाल सिहं खैरवार पिता तेजू प्रसाद साकेत की मदद से घेराबंदी कर पकड़ा गया। अभिरक्षा में लेकर घटना के संबंध में पूछताछ करने पर जुर्म स्वीकार किया।

जिन्हें अभिरक्षा में लेकर प्राथमिक स्कूल तेन्दुहवा टोला में साक्षी सवाल सिंह पिता चतुर्गुण खैरवार उम्र 32 वर्ष निवासी सिधार तेन्दुहवा टोला थाना मोरवा एवं तेजू प्रसाद साकेत पिता लालजी साकेत उम्र 37 वर्ष निवासी सिधारी थाना मोरवा जिला सिंगरौली के समक्ष संदेही राम कुमार उर्फ अन्ने पनिका पिता रघुराई पनिका उम्र 40 वर्ष निवासी सिधार सेन्दुवा टोला थाना मोरवा ने बताया कि उसका विवाह कौशिल्या के साथ हुआ था। दो तीन साल से उसकी पत्नी नाराज होकर अपने मायके में रहने लगी थी तथा शंखलाल के साथ लुक छिपकर मिलने के अलावा उनमें अनैतिक संबंध भी स्थापित हो गया था। पूर्व में इस विषय में पंचायत बैठाकर समझौता किया था फिर भी शंखलाल उसकी पत्नी कौशिल्या से अवैध संबंध रखता था।

11 नवंबर की रात्रि में वह अपने खलिहान के पास गया था। उसी समय नर्सरी की तरफ से बच्चे के रोने की आवाज आ रही थी। तब अपने खलिहान से अपने साढू भाई रामकृत पनिका के घर गया वहां पर साढू भाई व हरिमंगल मिले उनको बताया कि नर्सरी की तरफ से किसी बच्चे के रोने की आवाज आ रही है, चलो देखते हैं तब तीनों टार्च लेकर टेउना पहाड़ी के पास गये। टार्च जलाकर देखा तो शंखलाल खैरवार उसकी पत्नी कौशिल्या के साथ लेटा था। वहीं पर उसका बच्चा भी था। टार्च की रोशनी देखकर पत्नी बच्चे को लेकर चली गई। संखलाल के पास पहुंचा तो संखलाल पत्थर उठाने लगा उसी समय हाथ में लिये बांस का डंडा संखलाल को जान से मारने के लिये उसके दाहिने तरफ कनपटी के पास मारा उसका सर फट गया खून निकलने लगा। तब शंखलाल के ऊपर चढ़कर डंडे से उसका गला दबा दिया जिससे संखलाल की मृत्यु हो गई। तब तीनों ने मिलकर संखलाल की लाश को ध्रवहापार जठ्ठाटोला जंगल में फेंक दिया और अपने अपने घर चले गये। पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से मारपीट करने वाला डंडा बरामद कर लिया है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button