जबलपुर में भी फलते हैं सबसे मंहगे जापानी आम

एक आम की बोली लगी 21 हजार

 

सिंगरौली। संस्कार धर्म शिक्षा उच्च न्यायालय आदि आदि के लिए विख्यात जबलपुर अब सबसे मंहगे जापानी आम ताईयो नो तमागो की उपज के लिए भी जाना जाएगा। इस आम के एक फल के लिए ₹ 21 हजार की बोली लगाई गई थी, लेकिन उत्पादक ने फिलहाल उसे बेचने से इनकार कर दिया।

जबलपुर के चरगवां मार्ग पर स्थित डगडगा हिनौता ग्राम निवासी संकल्प सिंह परिहार ने अपने बगीचे में ताईयो नो तमागो नामक जापानी आमों का बगीचा विकसित किया है। इन पेड़ों पर फलने वाले आमों को पकने के बाद ही तोड़ा जाता है। इस बार इस खास किस्म के आम को पकने में लगभग 1 महीने का समय लगेगा।

500 पेड़ों का बगीचा बनाने का लक्ष्य

इस बगीचे में फिलहाल 54 पौधे हैं जिनमें से ज्यादातर को हाल ही कलम किया गया है। वर्तमान में चार पेड़ों में लगभग 40 फल आए हैं। गत वर्ष 50 फल लगे थे। सख्त सुरक्षा के बाद भी इनमें से लगभग 14 फलों की चोरी हो गई थी। बचे हुए फल उन्होंने परिवार के लोगों में बांट दिए थे।

ज्ञात हो कि ताईयो नो तमागो आम का रंग कच्चा रहने तक लाल माणिक की तरह दिखता है। जबकि पक जाने के बाद यह आम सुनहरे रंग का हो जाता है। पेड़ में लगे यह आम लोगों को बहुत ही लुभाते हैं। इस आम में खुशबू के साथ ही मिठास भी अधिक होती है। आम की खेती करने वाले संकल्प सिंह परिहार ने बताया कि उनका लक्ष्य अपने बगीचे में ताईयो नो तमागो किस्म के 500 पेड़ तैयार करने का है इसके बाद ही बाकी किस्म के आम की तरह वे ताईयो नो तमागो आम बाजार में बेचेंगे। उनका बगीचा 12 एकड़ में फैला है जिसमें छ: विदेशी किस्म के आम लगे हैं।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button