उफनाई चुनिया नदी में बही चार महिलाओं में दो का मिला शव

एक लापता-एक जीवित बची

सिंगरौली। गत शुक्रवार को जिले के सरई पुलिस थाना क्षेत्र के कोनी गांव में उफनाई पहाड़ी नदी चुनिया की तेज धारा में बह गई चार महिलाओं में से अब तक दो का शव बरामद कर लिया गया है। झाड़ियों में फंस जाने से एक 10 वर्षीय बच्ची जीवित बच गई थी जिसे रेस्क्यू कर बाहर निकाल लिया गया है। नौ साल की एक अन्य बच्ची का फिलहाल पता नहीं चला है। रेस्क्यू टीम उसके तलाश में जुटी है।

लकड़ी बीनने जंगल गईं थी महिलाएं

शुक्रवार की देर शाम साढ़े सात बजे सरई थाना क्षेत्र के ग्राम कोनी की चार महिलाएं जिनमें दो बच्चियां शामिल हैं तेज बारिश के बाद चुनिया नदी में अचानक आई बाढ़ की चपेट में आने से नदी की तेज धारा में बह गई थीं। इनमें से दो महिलाओं का शव पुलिस ने घटनास्थल से लगभग 9 किलोमीटर दूर गोपद नदी के किनारे से बरामद कर लिया है। जबकि इसी हादसे में झाड़ियों में फंसी 10 वर्ष की सुप्रिया को रेस्क्यू टीम ने सही सलामत बाहर निकाल लिया है। नौ वर्ष की प्रियंका अभी भी लापता है जिसकी खोजबीन प्रशासन व पुलिस की रेस्क्यू टीम करने में जुटी है।

रेस्क्यू कार्रवाई

घटना की सूचना मिलने के बाद रात में ही सरई थाना प्रभारी संतोष तिवारी, देवसर एसडीएम विकास सिंह व देवसर एसडीओपी घटनास्थल पर पहुंच गए और रेस्क्यू टीम की सहायता से नदी में बहे लोगों को तलाशने का कार्य शुरू करा दिया।

थाना प्रभारी का कहना

सरई थाना प्रभारी संतोष तिवारी ने बताया कि ग्राम कोनी निवासी उर्मिला पत्नी श्रीकृष्ण जायसवाल उम्र 30 वर्ष, सुप्रिया पुत्री श्रीकृष्ण जायसवाल उम्र 10 वर्ष व प्रियंका पुत्री श्रीकृष्ण जायसवाल 9 वर्ष और अन्नु पत्नी बाबूराम जायसवाल उम्र 33 वर्ष शुक्रवार को गांव के समीप जंगल से लकड़ी लाने गयी थीं। वहाँ लकड़ी बीनते बीनते शाम हो गयी और इसी बीच अचानक तेज बारिश शुरू हो गयी। आनन फानन में वे सभी लकड़ियां समेट कर घर की ओर चल पड़ीं। गांव के रास्ते में पड़ने वाली चुनिया नदी को पार करने के लिए वह सभी पानी में उतरीं कि उसी समय अचानक बाढ़ आ गया जिसकी चपेट में आकर सभी बह गईं।

रात में ही शुरू हो गया था बचाव कार्य

टी आई संतोष तिवारी ने बताया कि सूचना मिलने के बाद रात में ही राहत व बचाव कार्य में पुलिस टीम जुट गई और रेस्क्यू के दौरान घटनास्थल से कुछ दूरी पर 10 वर्षीय सुप्रिया जीवित मिल गयी। टी आई के अनुसार वह एक झाड़ी में फंस गई थी जिस वजह से वह पानी के बहाव से सुरक्षित बच गयी। जबकि घटना स्थल से 9 किलोमीटर दूर रात्रि 12 से 1 बजे के बीच गोपद नदी के मुहाने से सुप्रिया की मां उर्मिला पत्नी श्रीकृष्ण जायसवाल का शव बरामद हुआ।

14 घण्टे बाद मिला दूसरी महिला का मिला शव

रेस्क्यू के दूसरे दिन शनिवार की प्रातः 9 बजे हादसे में लापता अन्नू पत्नी बाबूराम जायसवाल उम्र 33 वर्ष निवासी कोनी का शव भी गोपद नदी के किनारे ग्राम दूधमनिया में मिला। टी आई संतोष तिवारी के अनुसार हादसे में फंसे कुल 4 में से तीन का पता चल चुका है। जबकि अभी भी लापता प्रियंका पुत्री श्रीकृष्ण जायसवाल उम्र 9 वर्ष की तलाश में रेस्क्यू टीम जुटी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button