नौगईं गांव के दो तालाबों में चार मगरमच्छों की आमद से ग्रामीण भयभीत

एक पखवाड़े में दो बकरियों को बनाया शिकार, सूचना के बाद भी वन विभाग बेपरवाह

सिंगरौली, मध्यप्रदेश। फॉरेस्ट रेंज कर्थुआ के नौगईं द्वितीय गांव के पनिहवा एवं सरईहवा तालाब में चार मगरमच्छों की आमद से ग्रामवासी भयभीत हैं। इन मगरमच्छों ने गत एक पखवाड़े में दो बकरियों को अपना शिकार बना लिया है।

इस विषय में ग्राम नौगईं द्वितीय के ग्रामीणों ने बताया कि गांव में स्थित दो तालाब पनिहवा एवं सरईहवा में पिछले जून माह से चार मगरमच्छों ने डेरा डाल रखा है। बताया कि 16 जुलाई को चन्द्रभान कोल एवं 28 जुलाई को गोलरी पिता तुलसी कोल की एक-एक बकरियों को मगरमच्छ ने शिकार बना लिया।

मगरमच्छों को घड़ियाल अभयारण्य में छोड़ने की मांग

गांव के लोगों का कहना है कि उन्होंने इसकी जानकारी सहायक वन परिक्षेत्राधिकारी को दी है। मगरमच्छों को सोन घडिय़ाल अभयारण्य के सोन नदी में छोड़े जाने के लिए आग्रह भी किया गया। लेकिन वन विभाग की उदासीनता के कारण अब तक मगरमच्छों का रेस्क्यू कर उन्हें सोन नदी में छोड़े जाने के लिए कोई पहल नहीं की गई है। ग्रामीणों ने आशंका जताते हुए बताया कि तालाब में कभी कभार बच्चे भी चले जाते हैं। जबकि दिन में मगरमच्छ तालाब से बाहर निकल कर खेतों में भी विचरण करते रहते हैं।

रात में घरों में घुसने का भी भय

ग्रामीणों ने बताया कि सबसे बड़ा डर रात के समय रहता है। अंधेरे में उनके घरों में आने का खतरा बना रहता है। आरोप है कि वन विभाग किसी बड़ी घटना की प्रतीक्षा में है। इसीलिए वन परिक्षेत्र कर्थुआ के परिक्षेेत्राधिकारी द्वारा मगरमच्छों को तालाब से हटाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है। भयभीत ग्रामीणों ने क्षेत्रीय विधायक अमर सिंह एवं कलेक्टर का ध्यान आकृष्ट कराते हुए त्वरित कार्रवाई किये जाने हेतु गुहार लगाई है।

Rohit Gupta

A journalist, writer, thinker, poet and social worker.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button